Health tips

Reading Time: < 1 minute

पूजा आरती पश्चिम में है तो खुशियाँ दबेंगी दक्षिण में है तो बिमारी आयेगी तुम्हारी पूजा की दिशा पूरब या उत्तर में हो तो स्थिति उन्नत होगी पूजा की दिशा उत्तर में है तो अध्यात्मिक उन्नति होगी, पूर्व में है तो लौकिक उन्नति होगी गुरूमंत्र है तो दोनों में आध्यात्मिक और लौकिक उन्नति होगी तो देख लेना की आरती की दिशा, पूजा करते तो आपकी दिशा पश्चिम की तरफ तो नहीं, होगी तो बदल देना सत्संग से कैसा ज्ञान मिलता है सोते समय पश्चिम में सिर रहेगा तो चिंता पीछा नहीं छोड़ेगी उत्तर में सिर करते हैं तो बिमारी पीछ नहीं छोड़ेगी सोते समय सिराना पूरब की तरफ अथवा दक्षिण की तरफ हो