Health tips

Reading Time: < 1 minute

दीवाली में मिठाइयाँ नपी-तुली खाना….स्वामी विवेकानंद बोलते कि , “मिठाई के दुकान साक्षात यमदूत की दुकान है!!” विवेकानंद की बात से हम सहमत है…. कोई जरुरी नहीं शरीर को मिठाईयों की….. स्वास्थ्य के लिए रोटी, सब्जी , दाल , फल खाते ये पर्याप्त है….. बाकी फालतू है…. रसगुल्ले तो दुश्मन को भी नही खिलाये! …कलकत्ता में छेना ज्यादा चलता तो स्वास्थ्य भी क्षीण है …और इडली डोसा …पेट ख़राब कराने का एकदम सीधा रास्ता….. किसी को slow poisoning देना है ना तो इडली डोसा खिलाये…. और किसी को मीठा जहर देना हो तो “कुरकुरे” दे दो!! ये चीजे स्वास्थ्य के लिए बहुत नुकसान करते ..इन से बचो… बाजार में बेसन की मिठाई मिलती.. तो बेसन ४० रुपये किलो है और चावल का आटा १८ रुपये किलो ..तो मिठाई दोनों को मिक्स कर के बनाते तो और भी सत्यानाश है…. बाजारू मिठाई से सावधान रहे… नपी-तुली खाना …। पटाखों से भी परहेज करना.. पर्व मांगल्य(Festivals), स्वाश्थ्य(Health) आधि व्याधि से बचने के लिए आधि व्याधि से बचने के लिए शनिवार के दिन पीपल का स्पर्श हितकारी माना गया है. आधि = मन के विकार माने काम , क्रोध आदि से बचना हो तो और व्याधि माने शरीर के रोग ..आधि व्याधि से बचने के लिए शनिवार को पीपल को स्पर्श करे और ॐ हौं जूं सः ये मन्त्र की एक माला रोज ऐसे २१ दिन जप करे.. तो आधि माना मन के रोग और व्याधि माना शरीर के रोग मिट जायेंगे…इस मन्त्र में ४ बीज मन्त्र है..फायदा जरुर होता है