“जिन जातकों का नाम ‘वी’ अक्षर से आरम्भ होता है वह तेजस्वी, आलस्य से दूर स्फूर्ति वाले एवं शक्ति सम्पन्न होते हैं, यह न केवल अपना आदर—सत्कार एवं मान—सम्मान आदि विशेष रूप से चाहते बल्कि दूसरों के भी आदर—सत्कार एवं मान—सम्मान का विशेष ख्याल रहते हैं। यह सदा ऊपर उठने की कोशिश में प्रयत्नशील रहते हैं।

महत्वाकाक्षांओं से परिपूर्ण यह लोग चाहते हैं कि लोग इनकी व इनके कार्य की चर्चा करें। जीतना इनका जुनून होता है तो हारना इन्हें मृत्यु तुल्य लगता है। सोच—समझकर बोलने वाले यह जातक बहुत ही सहनशील एवं संवेदनशील भी होते हैं।

“जिसके नाम की शुरुआत अंग्रेजी के ‘V’ अक्षर से होती है, तो वह व्यक्ति किसी की बंदिशे पसंद नहीं करता है। ऐसे
व्यक्ति अपनी बातें , अपने सपने , ये किसी से शेयर नहीं करते हैं।

किसी को रोक-टोक इन्हें अच्छी नहीं लगती है| ये केवल वो ही काम करते हैं जो इनका मन कहता है, इनसे किसी काम
को जबरदस्ती नहीं करवाया जा सकता है अगर किसी ने भूल से इनसे जबरदस्ती काम करवाने की कोशिश की तो ये ऐसा कुछ कर देगें जिससे वो काम रूक जायेगा।

कुल मिलकर कहा जा सकता है की आजाद ख्याल के होते हैं वी अक्षर वाले व्यक्ति| इस अक्षर वाले व्यक्ति नाम,
इज्जत और पैसा बहुत कमाते हैं लेकिन इसमें वक्त लगता है। इनको चीजें रूक-रूक कर और धीमी गति से मिलती है लेकिन स्थायी तौर पर इनके पास रहती है।

ये जिद्दी और आलसी भी होते हैं लेकिन वक्त आने पर अपनी जिम्मेदारियों का बखूबी निर्वहन करते हैं। सामाजिक जीवन में इनकी रूचि ज्यादा नहीं होती है इसलिए ये आलोचनाओं के भी शिकार होते हैं।

वैसे अपने दम पर आगे बढ़ने वाले ये लोग जीवन में देर से तरक्की करते है और जिनके निकट होते हैं उनके काफी अजीज होते हैं।

वी अक्षर वाले व्यक्ति भावनाओं की कद्र करते हैं | लेकिन अपनी भावनाओं के बारे में ये किसी से कुछ नहीं कहते हैं।
इनका पारिवारिक और वैवाहिक जीवन आम तौर पर सुखमय ही होता है।

इसलिए इन्हें अपनी चीजों को लेकर परेशानी नहीं होती है। इनमें एक चीज होती है, ये बहुत जल्दी किसी भी चीज से ऊब जाते हैं। परिवर्तन से प्रेम करने वाले इन लोगों के लिए सेक्स भी मायने नहीं रखता है। “

अपने आप को सदा श्रेष्ठ या सही समझने का अहम भाव इनको कई बार नुकसान में भी डाल देता है ।”