“H” अक्षर, 8 of 26

“जिन जातकों का नाम ‘एच’ अक्षर से प्रारम्भ होता है वह बहुत ही महत्वकांक्षी काल्पनिक एवं ऊँचे—ऊँचे ख्वाब देखने वाले होते हैं। अपने मतलब या लक्ष्य की र्पूति के लिए यह कुछ भी करने को तैयार रहते हैं।

संकोची और संवेदनशील होते हैं एच अक्षर वाले और इसके साथ ही ये अपनी ख़ुशी और अपना दर्द किसी से शेयर नहीं करते|

ऐसे व्यक्ति पक्के स्वार्थी, लालची, चापलूस तथा आवश्यकता से अधिक होशियार एवं समझदार होते हैं। ये काम कम और बातें अधिक उक्ति पर विश्वास करते हैं। श्रम करने की अपेक्षा ये श्रम करने का दिखावा—अधिक करते रहते हैं। अपने से अधिक किसी को भी अकलमंद नहीं समझते। कुछ ऐसा दिखावा—ढोंग रखेंगे कि देखने वाला इन्हें कार्य में व्यस्त देखे।

जरूरत से ज्यादा चतुर एवं नीति प्रिय होते हैं। संग्रह करना और योजनाएँ बनाना इन्हें अच्छा लगता है। ऐसे लोग परिश्रम से बचते हैं परन्तु प्रदर्शन ऐसा करते हैं कि इनसे ज्यादा कोई मेहनती नहीं। यह स्वयं को तत्काल बदलने का गुण भी जानते हैं। यह दिखने में प्रभावशाली और प्रिय होते हैं।

यह जरूरत से ज्यादा समझदार होते हैं परन्तु अपने स्वार्थ में ज्यादा उलझे रहते हैं। ऐसे व्यक्ति प्रबल महत्त्वाकांक्षी होते हैं तथा येन—केन प्रकारेण उन्नति की ओर आगे बढ़ना चाहते हैं।
ऐसे व्यक्ति धनबल से युक्त, कवि हृदय, संगीत प्रेमी और कोमल हृदय के कामुक मनोवृत्ति वाले जातक होते हैं। ऐसे जातक तीव्र बुद्धिशाली होते हैं तथा अक्ल के मामले में किसी अन्य व्यक्ति पर ज्यादा विश्वास नहीं करते। ऐसे जातक वाकपटु होते हैं तथा बातों—ही—बातों में दूसरे व्यक्ति को मोहित करके, अपना काम निकालने में दक्ष होते हैं।

ये रहस्यमयी व्यक्ति होते हैं, इनको समझ पाना थोड़ा मुश्किल होता है

लेकिन दिल के अच्छे और सच्चे व्यक्ति होते हैं। ये तेज़ दिमाग वाले होते हैं| ये व्यक्ति ना काहू से दोस्ती और ना ही काहू से बैर वाले होते हैं |

इस अक्षर के व्यक्ति अक्सर राजनीति और प्रशासनिक क्षेत्र में दिखायी देते हैं। इस अक्षर के व्यक्ति किसी से भी अपने प्यार का इजहार नहीं करते हैं लेकिन ये जिसे चाहते हैं, उसे दिल की गहराई से प्यार करते हैं।

इनका वैवाहिक जीवन काफी अच्छा होता है। ये इंसान पैसा खूब कमाते है लेकिन ये अपने पैसों को सिर्फ अपने ऊपर खर्च करते हैं।

फिलहाल ये काफी तरक्की करने वाले होते है। ऐसे लोग सिर्फ अपनी मर्जी के मालिक होते है ये दूसरों पर हुकूमत करते हैं लेकिन कोई इन पर हुकूम चलाये ये इन्हें बर्दाश्त नहीं।

ज्ञान का अथाह सागर कहलाने वाले ये व्यक्ति समाज के लिए अलग मिसाल बनते हैं।”